Dr. Sanjay Kumar, Principal

वर्ष 2019-20 का सत्र सफलतापूर्वक समाप्त कर हम नये सत्र की ओऱ professional resume writing service बढ़ रहै है। पिछले वर्ष की सफलता पर आप सभी को हार्दिक बधाई तथा आगामी सत्र के लिए शुभकामनाएँ।

मानव जीवन क्रो विकसित करने के लिए शिक्षा एक ऐसा माध्यम है जिसके ट्ठारा देश अपने हजारों साल की संस्कृति को संजोकर एवं भविष्य में दुनिया के विकसित देशों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल सकेगा ।वर्तमान युग प्रतिस्पर्धा का युग है और इस युग में सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को बहुआयामी प्रतिभा का धनी होना चाहिए। हर व्यक्ति की इच्छा होती है कि लोग उसे एक सफल व कामयाब व्यक्ति के रूप में जानें, पहचाने व मानें। परन्तु सफलता के ये मानक आधुनिक युग में केवल भौतिक संसाधनों तक ही सीमित हो गए हैं, जो अन्तत: सफलता के वास्तविक अर्थों से पृथक हो जाते हैं। हमारा भारतीय चिंतन विश्व में श्रेष्ट चिन्तन रहा है जो स्वयं को नहीं परहित को प्राथमिकता देता है। उसी चिन्तन के अनुसार वास्तविक सफलता वही होगी जिससे परहित के कार्य सिद्ध हो सके। इस प्रकार की सफलता प्राप्ति के लिए भौतिक उन्नति के साथ-साथ आध्यात्मिक उन्नति भी अत्यावश्यक है। आध्यात्मिक उन्नति के बिना केवल भौतिक उन्नति स्वकेन्द्रित तथा विनाशकारी सिद्ध हो सकती है। अत: आध्यात्मिक उन्नति हेतु व्यक्ति का मानसिक, बौद्धिक विकास आवश्यक है जो स्वच्छ साहित्य के पठन-पाठन और अपने श्रेष्ठ ऋषि-मुनियों तथा पूर्वजों क्री श्रेष्ठ परम्पराओं के अनुसरण के द्धारा संभव है। इनके माध्यम से सर्वागीण विकास के इस पवित्र कार्य में विद्यालय परिवार प्रयासरत है।

इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु विद्यालय में समय-समय अनेक प्रकार की गतिविधियों का आयोजन किया जाता है। इन गतिविधियों के सफल संचालन में आचार्यो का कुशल मार्गदर्शन एवं विद्यार्थियों की सराहनीय भूमिका रहती है। विद्यालय दिनो-दिन उन्नति को बुलंदियों को छुए। इसी apa paper cover page आशा और विश्वास के साथ अंत में केवल इतना ही कहना चाहूंगा-

परेशानियो से भागना आसान होता है,
हर मुश्किल जिन्दगी में एक इम्तिहान होता है।
हिम्मत हारने वालों को कुछ नहीं मिलता जिन्दगी मेँ,
मुश्किलों से लड़ने वालों के कदमों में ही तो जहां होता है।

शुभकामनाओं सहित ।